सबरीमाला मंदिर पर सुप्रीम फैसला

सबरीमाला मंदिर पर सुप्रीम फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने खत्म की पुरानी परम्परा

कहाँ है सबरीमाला मंदिर

      केरल में अवस्थित है।

      इस मंदिर के निकट पंपा नदी निकलती है जो केरल की तीसरी सबसे बड़ी नदी है। (पेरियार सबसे बड़ी)

      पेरियार टाइगर रिजर्व के बीच अवस्थित है।

      पष्चिमी घाट पर्वत

      पतनमट्टिका जिले में

      अय्यपा भगवान का मंदिर है।

भगवान अय्यपा

  • भगवान अय्यपा को भगवान षिव और मोहिनी (विष्णु का रूप) का पुत्र माना जाता है।
  • इनका एक नाम हरिहर पुत्र भी है। अर्थात हरि यानि विष्णु तथा हर यानि षिव से है।
  • पौराणिक मान्यता में कहा गया कि यह स्त्रियों से काफी दूर रहते थे।
  • सबरीमाला मंदिर का प्रबधंन त्रावणकोर देवास्वम बोर्ड करता है।
  • केरल के सबरीमाला मंदिर में 1 से 50 वर्ष की महिलाओं के प्रवेष पर पाबंदी थी। इस उम्र की महिलाओं को मासिक धर्म होता है और उस दौरान वह शुद्ध नहीं होती है।
  • इस पाबंदी से कौनसे मौलिक अधिकार का उल्लंघन है- Articals – 14, 15 and 17

सुप्रीम लड़ाई –

सबरीमाला मंदिर की सदियों पुरानी परम्परा के खिलाफ कानूनी लड़ाई 2006 में इंडियन यंग लॉयर्स एसोसिएषन की याचिका से शुरू हुई।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला – 4:1 (जस्टिस मल्होत्रा)

  • भगवान अय्यपा एक अलग धार्मिक पंथ नहीं है। निष्चित आयु की महिलाओं पर रोक लगाने का नियम धर्म का अभिन्न हिस्सा नहीं है।
  • अनुच्छेद 25(1) के तहत सभी को धार्मिक आस्था और पूजा-अर्चना का मौलिक अधिकार प्राप्त है। इसमें महिलाएं भी शामिल है।
  • 10 से 50 वर्ष की महिलाओं के प्रवेष पर रोक लगाने वाला नियम 3 (बी) हिन्दू महिलाओं के पूजा-अर्चना के मौलिक अधिकार का हनन करता है।
  • मासिक धर्म के आधार पर महिलाओं को बाहर करना एक तरह से छुआछूत है। इसे संविधान में अभिषाप माना गया है। इसमें पवित्रता या अषुद्धता के लिए कोई जगह नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on print
x