AADHAAR – चेहरा ही पहचान है

AADHAAR – चेहरा ही पहचान है

  • आधार में चेहरे की पहचान भी जरूरी है।
  • UIDAI – 15 सिंतबर, 2018 से लागू है।
  • टेलिकॉम कंपनियों को सिम देते समय चेहरे की पहचान जरूरी है। यदि आधार के जरिये सिम लेने पर।

इसका लाभ :-

  1. फिंगर क्लोनिंग पर भी रोक लगाने में कारगर होगा।
  2. आम लोगों की निजता ओर पुख्ता होगी।
  3. आधार सुरक्षा सुनिश्चित होगी।
  4. दिव्यांग जनों को, वृद्धों, मजदूरों को लाभ होगा।
  5. आधार वेरीफिकेशन के वक्त होगा चेहरे का मिलान।
  6. बायोमेटिªक एप्लीकेशन के जरिये चेहरे की पहचान होगी।

सुरक्षा चुनौतियों के उपाय :-

  1. बायोमेटिक लॉकिंग
  2. 8 नम्बर की OTP – 30 सेकेण्ड में।
  3. 16 अंकों वाली वर्चुअल आईडी।

आधार कार्ड :-

  1. यह एक विशिष्ट पहचान पत्र
  2. IT विप्रो ने पायलट प्रोजेक्ट तैयार किया है।

उद्धेश्य :-

  • पारदर्शिता एवं सुशासन स्थापित करना।
  • सुरक्षा नागरिकों की सही पहचान करना।
  • भ्रष्टाचार समाप्त करना।
  • सरकारी सेवा एवं योजना के प्रभावी वितरण करना।

NOTE :- पहला आधार कार्ड महाराष्टª के बंदर को 2010 में जारी किया गया।

WHAT IS UIDAI ?

  • यह एक सांविधिक निकाय है।
  • आधार, वितीय अधिनियम 2016 के तहत है।
  • यह इलेक्टानिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधीन आता है।
  • इसकी स्थापना 12 JULY, 2016 को हुई।

“आम आदमी का अधिकार – आधार” (पहले)

“मेरा आधार मेरी पहचान” टेगलाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on print
x