Author: ShivaG Sir

नीति आयोग की रिपोर्ट NITI AAYOG REPORT

नीति आयोग की रिपोर्ट  ( NITI AAYOG REPORT ) “स्ट्रैटजी फाॅर न्यू इंडिया @ 75”   खण्ड – वाहक   प्रस्तावना विकास उद्योग तकनीक एवं नवाचार रोजगार एवं श्रम सुधार वित्तीय समावेशन सभी के लिये आवास यात्रा, पर्यटन एवं आतिथ्य खनिज किसानों की आय दोगुना करना (I) कृषि का आधुनिकीकरण किसानों

Read More »

सिविल सेवा के लिए अभिरूचि तथा बुनियादी मूल्य

सिविल सेवा के लिए अभिरूचि तथा बुनियादी मूल्य (Interest and Basic Values ​for Civil Service) “खुद को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप दूसरों की सेवा में खुद को खो दे” – महात्मा गांधी। सिविल सेवा के लिए अभिरूचि तथा बुनियादी मूल्य – अभिरूचि :- इसका तात्पर्य है

Read More »

अनुच्छेद – 370 एवं 35-A

अनुच्छेद – 370 एवं 35-A           लम्बे अरसे के बाद केन्द्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा देने वाला अनुच्छेद-370 हटा दिया है। साथ ही जम्मू-कश्मीर को दो केन्द्रशासित प्रदेशों में विभाजित किया गया है। एक केन्द्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर होगा, जहाँ विधानसभा होगी तथा

Read More »

भारत तथा विश्व के नैतिक विचारकों तथा दार्शनिकों का योगदान

भारत तथा विश्व के नैतिक विचारकों तथा दार्शनिकों का योगदान सद्गुण का सिद्धांत:- यह गुण चरित्र की विशेष स्थिति है। यह वह स्थायी मानसिक प्रवृति है जो विवेकपूर्ण है। सद्गुण के प्रकार:- 1. नैतिक 2. बौद्धिक – इसका सम्बन्ध भावनाओं से है। – संवेदनाओं को विवेक के नियंत्रण में रखकर

Read More »

नीतिशास्त्र तथा मानवीय सहसम्बन्ध

नीतिशास्त्र तथा मानवीय सहसम्बन्ध नीतिशास्त्र मानक नियमों एवं आदर्शों द्वारा मानवीय आचरण तथा व्यवहार का नियमन, मार्गदर्शन तथा मूल्यांकन करने वाली सामाजिक व्यवस्था है जिसका लक्ष्य व्यक्ति तथा समाज का अधिकतम कल्याण है। नीतिशास्त्र :-  नीतिशास्त्र शुभ आचरण का अध्ययन करना है। अतः इसे चरित्र विज्ञान की भी संज्ञा दी

Read More »

राजनीति का अपराधीकरण : भारतीय लोकतंत्र

“राजनीति का अपराधीकरण : भारतीय लोकतंत्र” राजनीति के अपराधीकरण का अर्थ है कि राजनैतिक सत्ता में बने रहने के लिये अपराध का सहारा लिया जाता है। अर्थात् सत्ता का सुख भोगने के लिये गैर संवैधानिक एवं अनुचित तरीकों का सहारा लेना। वहीं इसके साथ-साथ एक शब्द हमेशा चर्चा का विषय

Read More »

अंतरिक्ष की दुनिया में बढ़ते भारत के कदम

“अंतरिक्ष की दुनिया में बढ़ते भारत के कदम” अंतरिक्ष का विषय संभावनाओं और जिज्ञासाओं से भरा हुआ। इस संदर्भ में शुरूआत कहानी से करते है। मोनू एक बार खुले आकाश के नीचे सो रहा था तब उसने तारों को टिमटिमाते हुए देखा तो अपने पिताजी से पूछने लगा कि पापाजी

Read More »

डिजिटल अर्थव्यवस्था

डिजिटल अर्थव्यवस्था : आर्थिक समताकारी समाज या आर्थिक विषमता का द्योतक सुधा और सुरज नाम के दो व्यक्ति थे क्रमशः सुधा शिक्षित परिवार से था और स्वयं भी अच्छी शिक्षा ग्रहण कर चुका था वहीं सुरज किसान का बेटा होने के नाते ज्यादा नहीं पढ़ पाया था। सुधा ने डिजिटल

Read More »
Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on print
x