ब्रिटिश शासन Part – 3

ब्रिटिश शासन – Part – 3

ब्रिटिश सत्ता रूपान्तरण का आशय – 

Que 17. ब्रिटिश सत्ता का रूपान्तरण आप हमारे लिए एक महत्वपूर्ण इनपूट कैसे है। स्पष्ट कीजिए।

ब्रिटिश सत्ता रूपान्तरण का आशय है कि भारतीय स्थानीय सत्ता का ब्रिटिश सत्ता के रूप में बदलना यद्यपि इस रूपान्तरण की प्रक्रिया में कई बार संस्थाओं का नाम नहीं बदला जाता था लेकिन उसकी पूरी कार्यप्रणाली बदल दी जाती थी। जैसे – भारतीय न्याय व्यवस्था को आधुनिक बनाने के नाम उसका पूर्णतः रूपान्तरण कर दिया क्योंकि किसी ब्रिटिश व्यक्ति के द्वारा किए गए अपराध के लिये सजा देने का अधिकार यूरोपीय जज को दिया गया।

ब्रिटिश सत्ता आज हमारे लिए एक महत्वपूर्ण इनपूट है क्योंकि –

  1. पाश्चात्य शिक्षा का विकास तथा इसके आधार पर विभिन्न दार्शनिक विचारों की स्थापना, जैसे – तर्कवाद, अनुभववाद, मानवतावाद, बुद्धिवाद इत्यादि।
  2. पाश्चात्य ज्ञान के आधार पर भारत में उत्पन्न होने वाला सामाजिक-धार्मिक सुधार आंदोलन ने समाज एवं धर्म की कुरीतियों को आम लोगों के सामने लाया।
  3. पाश्चात्य ज्ञान के आधार पर विभिन्न प्रकार के कानून बनाये गये। जैसे – सती प्रथा कानून, दास प्रथा उन्मूलन कानून, विधवा पुनर्विवाह को स्थापित/प्रोत्साहित करना, बाल विवाह निषेध कानून, विभिन्न प्रकार के कारखाना अधिनियम बनाकर श्रमिकों को गरिमामय जीवन प्रदान करने की बात करना इत्यादि।
  4. ब्रिटिश द्वारा स्थापित न्याय प्रणाली कहीं-कहीं आज भी भारतीय न्यायप्रणाली को प्रभावित करती है।
  5. 1935 का भारत शासन, कैबिनेट मिशन योजना इत्यादि के द्वारा भारतीय संविधान को महत्वपूर्ण इनपूट प्राप्त हुआ है।
  6. रेलवे के विकास ने भारत को एक महत्वपूर्ण तकनीक प्रदान किया। जिससे आज भारतीय यातायात पद्धति का मेरूदंड कहा जाता है।
  7. ब्रिटिश सूचना प्रणाली (डाक, तार), ब्रिटिश नेवीगेशन प्रणाली, कला एवं संस्कृति के लिए उनके विचार आज भी हमारे लिए एक महत्वपूर्ण आगत है।
  8. आधारभूत संरचनाओं के विकास हेतु महत्वपूर्ण संस्थान नहर प्रणाली।

उपरोक्त तमाम विशेषताएँ जो ब्रिटिश सत्ता के रूपान्तरण का प्रतिफल था। दरअसल एक उपोत्पाद (बाह्य) था अर्थात् उपनिवेशवाद कभी भी किसी भी कीमत पर अपने लिए महतम लाभ खोजता है चुंकि उपरोक्त कार्य करने से उपनिवेशवाद मजबूत हो रही थी इसलिए उसने ऐसा किया। हाँ, इतना अवश्य कहा जा सकता है कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद इनके द्वारा उठाये गये कदम हमारे लिए एक महत्वपूर्ण आगत बना जिसे आगत बनाने का पूरा श्रेय भारतीय विद्वानों व विचारकों को जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on print
x