बजट : अंतरिम बजट (The Interim Budget) 2019-20 Part-2

बजट : अंतरिम बजट (The Interim Budget) 2019-20 Part-2

 अवसंरचना – 

  • ऑपरेशन एयरपोर्ट की संख्या 100 से ज्यादा हो गई। आपको बतादे कि 100वाँ एयरपोर्ट सिक्किम में स्थित पाक्योंग एयरपोर्ट है।
  • अरूणाचल प्रदेश में भी व्यावसायिक एयरसेवा शुरू हो गयी। मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम तीनों राज्य रेल मैप में शामिल हो गये।
  • वर्तमान में रेलवे की में से में हो गया।
    1. रेलवे द्वारा जितने पैसे कमाने के लिए कितना पैसा खर्च किया जा रहा है, उसे ही कहा जाता है।
    2. जैसे – पैसे कमाने के लिये रेलवे ने में पैसे खर्च किये।
  • वंदे भारत एक्सप्रेस भारत की सबसे तेज गति की रेल है जो दिल्ली से वाराणसी मार्ग पर चलेगी। यह भारत की पहली इंजनरहित ट्रेन है, साथ ही मेक इन इंडिया के तहत निर्माण।

 मनोरंजन – 

  • अभी तक केवल भारत में बाह्य देशों के कोई निर्देशक (अभिनेता) फिल्म निर्माण करने आता था तो उसे सिंगल विंडो क्लीयरनेस लेना पड़ता था लेकिन भारतीयों के लिये अलग-अलग स्थानों पर स्वीकृति लेनी पड़ती थी।
  • बजट 2019-20 में भारतीयों को भी फिल्म निर्माण के लिये (सिंगल विडों क्लीयरनेंस) के अनुमति का प्रावधान है।
  • सिनेमेटोग्राफ एक्ट, 1956 में ‘एंटी केमकोल्डर नियामक’ लागू किये जाएगे क्योंकि सिनेमा हॉल में फिल्म को रिकॉर्ड करने से सिने जगत को नुकसान होता है। यह इस पर रोक लगायेगा।
  • मूवी टिकट पर को कम किया गया। वर्तमान में 100 रूपये की टिकट पर तथा 100 रूपये से ज्यादा की टिकट पर लगेगा।

 प्रौद्योगिकी – 

  • आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस के लिये राष्ट्रीय कार्यक्रम चलाने की बात की जिसमें एक नेशनल सेंटर फॉर आर्टिफिसियल इंटिलिजेंस की स्थापना की जायेगी। जो अनुसंधान करेगा कि किस प्रकार से देश की आर्थिक संवृद्धि और आर्थिक विकास में का उपयोग हो सकता है।
  • भारत में कॉल रेट की दर विश्व में सबसे सस्ती है।
  • देश में कॉमन सर्विस सेंटर की संख्या 3 लाख है, जिसमें 12 लाख लोगों को रोजगार मिला है।
  • आने वाले 5 वर्षों में एक लाख गॉवों को डिजिटल किया जायेगा।

बजट – हम बजट को दो खातों में बांटते है – जो –

राजस्व खाता

पूँजीगत खाता

लघु अवधि की आर्थिक गतिविधियों पर ध्यान होता है।दीर्घ अवधि की आर्थिक गतिविधियाँ आती है।
इसमें हर साल की गतिविधियाँ होती है।इसमें वे गतिविधियाँ आती है जो एक वर्ष से ज्यादा की अवधि की होती है।
जैसे – टैक्स, खर्च।जैसे – परियोजना पर खर्च।

बजट : अंतरिम बजट (The Interim Budget) 2019-20 Part-2 - ShivaGStudyPoint

बजट : अंतरिम बजट (The Interim Budget) 2019-20 Part-2 - ShivaGStudyPoint

बजट : अंतरिम बजट (The Interim Budget) 2019-20 Part-2 - ShivaGStudyPoint

2019-20 में सबसे ज्यादा राजस्व प्राप्त का क्रम –

  1. कॉरपोरेशन टैक्स (Corporation Tax) – 21%
  2. Borrowing and Other Liabilities  – 19%
  3. Income Tax                                            – 17%
  4. Union Excise Duties (पेट्रोल-डीजल) – 7%
  5. Customs                                                   – 4%
  6. Non Debt Capital Receipts              – 3%
  7. Other                                                           – 8%

2019-20 में सबसे ज्यादा राजस्व खर्च का क्रम –

  1. States Share of Taxes & Duties – 23%
  2. ब्याज अदायगी                                          – 18%
  3. केन्द्रीय क्षेत्र की योजना                            – 12%
  4. केन्द्रीय प्रायोजित योजना                          – 9%
  5. आर्थिक सहायता                                         – 9%
  6. रक्षा                                                               – 8%
  7. पेंशन                                                             – 5%
  8. अन्य व्यय                                                    – 8%

बजट : अंतरिम बजट (The Interim Budget) 2019-20 Part-2 - ShivaGStudyPoint

 घाटा – 

  1. राजस्व घाटा = राजस्व व्यय – राजस्व आय
  2. बजट घाटा = कुल व्यय (राजस्व व्यय पूँजीगत व्यय) – कुल प्राप्तियाँ (राजस्व प्राप्ति पूँजीगत प्राप्ति)
  • Note :- 1. बजट घाटा राजस्व घाटे से अधिक व्यापक अवधारणा है।
  • 2. 1997-98 के वित्तीय वर्ष से बजट घाटे की अवधारणा को छोड़ दिया है।

राजकोषीय घाटा = बजटघाटा बाजार ऋण अन्य देयताएं

Note :- 1.इसके माध्यम से सरकार की आंतरिक और बाह्य दोनों स्त्रोतों से उधार लेने की आवश्यकता की माप होती है।
2. राजकोषीय घाटा सबसे अधिक व्यापक घाटा है।

प्राथमिक घाटा = राजकोषीय घाटा – व्यय भुगतान

2019-20 में सब्सिडी

  • खाद्य क्षेत्र
  • फर्टिलाइजर
  • पेट्रोलियम
  • इनट्रस्ट

Tax to GDP %

  • इसमें 2011-12 से 2018-19 तक ओवरऑल वृद्धि देखी गई।
  • इसमें 2011-12 से 2018-19 तक लगातार वृद्धि नहीं दर्ज की गई।
  1. सबसे ज्यादा Deficit Financing – Securities Against Small Saving
  2. Dificit Financing के लिए बाह्य स्त्रोत की अपेक्षा आंतरिक स्त्रोत का ज्यादा सहारा लिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on print
x