1857 ई. का विद्रोह Part – 3

1857 ई. का विद्रोह ( THE REVOLT OF 1857 ) Part – 3

लगातार भाग 2 से…..>> http://www.shivagstudypoint.com

विद्रोह की असफलता के कारण (Causes of the failure of the Revolt)

  1. योग्य नेतृत्व का अभाव
  2. विद्रोह का सीमित स्वरूप
  3. देषी नरेषों एवं सामंतों की गदारी
  4. विद्रोहियों के सीमित साधन
  5. संगठन का अभाव
  6. निष्चित उद्धेष्य की कमी कोई निष्चित एवं क्रमबद्ध योजना सा केन्द्रीय संगठन का अभाव था।
  7. निष्चित उद्धेष्य की कमी
  8. जनसमर्थन का अभाव
  9. राष्ट्रीयता की भावना का अभाव
  10. अंग्रेजों के अनुकूल स्थिति एवं कुषल सैन्य संचालन

प्रभाव :-

सरकार एवं दत्त :- “गदर ने भारतवर्ष में ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन के मरण की घंटी बजा दी।”

विद्रोह के परिणाम :-

  1. मुगल शासन की समाप्ति
  2. कंपनी के शासन की समाप्ति
  3. गवर्नर जनरल की स्थिति में परिवर्तन
  4. सरकारी नीतियों में परिवर्तन की घोषणा
  5. देषी रजवाड़ों एवं सामंतों के प्रति नीति में बदलाव
  6. भारतीयों को सरकारी नौकरियों में स्थान में सरकार ने भारतीय प्रषासनिक सेवा अधिनियम बनाया।   http://www.shivagstudypoint.com
  7. सेना का पुनर्गठन पील कमीषन का गठन
  8. जातीय विभेद का बढ़ावा देना परिणामस्वरूप् दो राष्ट्र सिद्धांत और पाकिस्तान की मांग की पृष्ठ भूमि तैयार कर दी।
  9. साम्राज्यवादी विस्तार की नीति में बदलाव।
  10. विद्रोह के सामाजिक और आर्थिक प्रभाव
  11. भारतीय राष्ट्रवाद का उदय।

 

विद्रोह के केंद्र एवं नेता :-

दिल्ली – जनरल बख्त खां
कानपुर – नाना साहब
लखनऊ – बेगम हजरत महल
बरेली -खान बहादुर
बिहार – कुंवर सिंह
फेजाबाद – मौलवी अहमदउल्ला
झांसी – रानी लक्ष्मीबाई
इलाहाबाद – लियाकत अली
ग्वालियर – तात्या टोपे
गोरखपुर – गजाधर सिंह
फर्रूखाबाद – नवाब तफज्जल हुसैन
सुल्तानपुर – शहीद हसन
सम्भलपुर – सुरेंद्र साई
हरियाणा – राव तुलाराम
मथुरा – देवी सिंह
मेरठ – कदम सिंह
सागर – शेख रमाजान
गढ़मंडला – शंकरषाह एवं राजा ठाकुर प्रसाद
रायपुर – नारायण सिंह
मंदसौर – शाहजादा हुमायूं फिरोजषाह

 

अंग्रेज जनरल :-

दिल्ली – लेफ्टिनेंट विलोबी, जॉन निकोलसन, लेफ्टिनेंट हडसन
कानपुर – सर व्हीलर, कोलिन कैम्पबेल
लखनऊ – हेनरी लारेंस, ब्रिगेडियर इंग्लिष, हेनरी हैवलॉक, जेम्स आउट्रम, सर कोलिन कैम्पबेल
झांसी – सर हयू रोज      http://www.shivagstudypoint.com
बनारस – कर्नल जेम्स नील

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on print
x